छत्तीसगढ़ से ब्यूरो रिपोर्ट रोशन कुमार सोनी 

खरसिया। सिविल अस्पताल प्रभारी डॉ. दिलेश्वर पटेल को बेस्ट परफॉर्मेंस के लिए प्रशस्ति पत्र हेतु चयनित किया गया है। उल्लेखनीय होगा कि डॉक्टर पटेल ने करीब सात-आठ महीनों के अल्प कार्यकाल में ही सर्वाधिक ओपीडी, आईपीडी, एनबीएसयू, बाल संबंधित शिविर एवं ब्लड ट्रांसफ्यूजन करते हुए कुपोषित बच्चों को सुपोषित करने हेतु संचालित एनआरसी का सफलतम संचालन किया है। ऐसे में गणतंत्र दिवस के अवसर पर उन्हें बेहतरीन संचालन के लिए प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जाएगा।

नगर के अन्य डॉक्टरों की तरह पेशेंट से दुर्व्यवहार की आदत से परे, स्वभाव से मृदुभाषी एवं वरिष्ठ परिवारिक सदस्य की तरह पेशेंट से व्यवहार करने वाले डॉ. दिलेश्वर पटेल ने उस अस्पताल की दुर्दशा को नई दिशा प्रदान की है, जो रिफर सेंटर के नाम से पूरे अंचल में मशहूर हुआ करता था। इस अस्पताल में बैठे डॉक्टर एवं स्टाफ पेशेंट को अपने निजी क्लीनिक भेजने हेतु ही इस अस्पताल में उपस्थित हुआ करते थे। वहीं डॉ. पटेल ने इस ढर्रे में आमूलचूल परिवर्तन किया है। अब इस अस्पताल के प्रति मरीजों का विश्वास दिन प्रतिदिन बढ़ता चला जा रहा है। यह उपलब्धि स्वयं ही किसी पुरस्कार से कम नहीं।

▪️ साहब! यह भी होता तो बेहतर होता

क्षेत्र की जनता ने अस्पताल प्रभारी डॉ. दिलेश्वर पटेल सहित बीएमओ डॉ.अभिषेक पटेल, संवेदनशील जिलाधीश भीम सिंह और क्षेत्र के लाडले मंत्री उमेश पटेल के प्रति धन्यवाद प्रेषित करते हुए आग्रह किया है कि खरसिया अस्पताल में महतारी एक्सप्रेस एवं ऑर्थोपेडिक डॉक्टर की कमी पूरी हो जाए तो काफी राहत मिलेगी। उल्लेखनीय होगा कि दूरस्थ ग्रामीण वनांचल से गर्भवती माताओं को सिविल अस्पताल पहुंचने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

Post a Comment

और नया पुराने
NEWS WEB SERVICES